Wednesday, February 13, 2019

Essay in hindi on सुभाष चंद्र बोस | Subash Chandra Bose पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

भारत  वीरो एवं वीरांगनाओं का देश है ,प्राचीन समय से ही  शौर्य व बलिदानों के लिए यह  प्रख्यात है। यहां के लोगों ने अपने निजी वह आरामदायक जिंदगी छोड़कर देश हित के  लिए कड़ा संघर्ष किया और अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया ऐसे कई महापुरुषों महात्मा गांधी ,भगत सिंह, लाला लाजपत राय, चंद्रशेखर आजाद, खुदीराम बोस, गोपाल कृष्ण गोखले ,सुभाष चंद्र बोस ,पंडित जवाहरलाल नेहरू आदि जैसे कई महापुरुषों  को अथक व कड़ा संघर्ष के फलस्वरूप आज देश में हम चैन की सांस ,स्वतंत्रतापूर्वक अपने राय रखना और अपने सपनों के हासिल करने की जज्बा रखते हैं । इन्होंने आजादी के लिए ना सिर्फ खुद को बल्कि अपने परिवार, दोस्तों और समाज के  लोगों को अंग्रेजों के विरुद्ध कड़ा संघर्ष और अपने हक की अधिकार मांगने के लिए प्रेरित किया। जिसके कारण आज हमारा देश स्वतंत्र हुआ और स्वदेशी लोकतांत्रिक व्यवस्था लागू की गयी। मातृभूमि के इस नि:स्वार्थ व देश-प्रेमियों का नाम इतिहास के पन्नों पर सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा इन विभूतियों का स्मरण मात्र से ही लोगों में देशभक्ति के साथ- साथ देश के प्रति कर्तव्यों के निर्वाहण व अन्याय के विरुद्ध लड़ने को प्रेरित करता है।

Essay in hindi on विज्ञान का योगदान | Contribution of Science पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

किसी भी है विषय व क्षेत्र में क्रमबद्ध ज्ञान को विज्ञान कहते हैं या किसी भी जुड़े विशेष विषयों उनके बारे में तमाम जानकारियों से परांगत  होना ही विज्ञान की श्रेणी में खड़ा करता हैIआज के आधुनिक युग में बिना विज्ञान के योगदान के बिना जीवित रहना भी संभव नहीं है ,आज की दुनिया दस वर्ष के पहले की  दुनिया से काफी बदलाव हो गया है पहले हमारे पूर्वजों 30 वर्ष पहले की बात और आज की जमाने की बात करते थे व संसाधनों की कमी व अपनी विवशता को स्मरण करते थे परंतु आधुनिक युग में 10 वर्ष में ही  विज्ञान के दौर में काफी बदलाव आ चुके हैं I विज्ञान का असर हमारे दैनिक जीवन को पूरी तरह से बदल दिया है या यूं कहें यह पूरी तरह से एक विशाल व प्रभावी क्रांति का रूप ले लिया हैI  आज किसी भी तरह की सोच -अवधारणा जो पहले असाधारण वह केवल सपने की सोच होती थी आज  सभी साधारण और हकीकत में तब्दील हो गया है,