Wednesday, March 13, 2019

Essay in hindi on क्रिकेट | Cricket पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

Cricket मेरा पसंदीदा खेल क्रिकेट है I मैं हमेशा इस खेल को खेलता हूं स्कूली दिनों से ही क्रिकेट से मेरा बचपन से जुड़ाव हैI  वैसे तो हमारे विद्यालय में कई प्रकार के खेल का आयोजन होता था परंतु मेरी तरह अधिकतर सहपाठी  क्रिकेट को तवज्जो ज्यादा देते थे क्योंकि क्रिकेट जितना खेलने में मजा आता है उतना ही देखने में भीI  खेल हमें अनुशासन और ऊर्जावान  बनाता है इसलिए विशेष रूप से शनिवार और हर रविवार क्रिकेट मैच का आयोजन दूसरे विद्यालय के छात्रों के साथ हमेशा विद्यालय द्वारा करवाया जाता थाI  जिनमें दो अलग- अलग टीम सम्मिलित होते थे चौथी कक्षा से  सातवीं कक्षा तक जूनियर और सातवीं से दसवीं तक सीनियर टीम बनाई जाती थी ,मैंने हर खेल के प्रति लोगों  का झुकाव देखा है परंतु एक खिलाड़ी होने के नाते ही नहीं बल्कि एक खेल -प्रेमी व दर्शक होने के नाते पूरे भारत में क्रिकेट सबसे ज्यादा लोकप्रिय खेल है I
 मैं आज भी प्राय: कबड्डी ,फुटबॉल भी खेलता हूँ परंतु क्रिकेट की दीवानगी पुरे भारत में अन्य खेलों की तुलना में अधिक है I इसकी ख़ास वजह यह है की यह आसानी से किसी मैदान,गल्ली-मोहल्ले में किफायती संसाधनों में भी खेला जा सकता है I अभी हाल ही में विभिन्न प्रकार के टूर्नामेंटों में मैंने एक क्रिकेटर के रूप में प्रदर्शन किया था और मैं आज भी अपने कॉलेज के क्रिकेट -अकादमी का सदस्य हूं, क्रिकेट हमेशा किसी भी समय खेला जाता हैI  जिसके लिए स्टेडियम व गांव व छोटे-छोटे शहरों में मैदान बना होता है ग्रामीण क्षेत्रों में भी केवल  लोकप्रियता  सिर्फ फुटबॉल ,क्रिकेट को लेकर रहती हैI 

क्रिकेट बल्ले और गेंद से दो टीमों के बीच खेला जाता है  पीच जहां से गेंदबाज बल्लेबाज को  गेंद डालता है उसकी लंबाई 20 मीटर करीब होती है बल्लेबाज दो छोर से खड़े होते हैं और दो अंपायर मैदान में उपस्थित रहते हैं I इसके अलावा गेंदबाजी टीम के 11 खिलाड़ी क्षेत्ररक्षण  कर रहे होते हैं ,क्रिकेट में दो टीम रहती हैं जिनमें प्रत्येक खिलाड़ियों की संख्या ग्यारह  होता हैI दोनों टीमों को 11-11 खिलाड़ियों की संख्या में बांट दिया जाता है और सभी लोगों के अलग- अलग योग्यता होती है कोई अच्छे बल्लेबाज  होते हैं तो कोई अच्छे गेंदबाज उनमें से एक कप्तान होते हैं और एक उपकप्तान कौन पहले बल्लेबाजी या गेंदबाजी करेगा इसका निर्णय टॉस  के द्वारा निर्धारित किया जाता हैI  खिलाड़ियों के अलावा भी कोचिंग स्टाफ, क्रिकेट के गुर सिखाने के लिए मुख्य कोच। बल्लेबाजी कोच, गेंदबाज कोच और क्षेत्ररक्षण कोच होते हैंI  जो हमेशा खिलाड़ियों को तंदुरुस्त और ऊर्जा -वान के साथ- साथ अच्छे प्रदर्शन करने के लिए प्रशिक्षण देते  हैं I क्रिकेट जितना दिलचस्प खेल है उतना ही मेहनत वाला इसलिए हमेशा हमें  फिटनेस व स्वास्थ्य पर ध्यान देना होता हैI  हमें बाहरी चीजें जिससे स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव पड़े वह खाना वर्जित  रहती हैI  टॉस के बाद निर्णय लेने का फैसला विजेता  कप्तानों पर होता है कि वह पहले गेंदबाजी या बल्लेबाजी करना चाहेंगेI  

 क्रिकेट खेल का जनक इंग्लैंड देश को माना  जाता है वैसे तो यह हर क्षेत्रीय देशों व कस्बों में खेला जाता था परंतु अधिकारिक रूप से और राष्ट्रीय स्तर पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्रिकेट की शुरुआत इंग्लैंड देश से प्रारंभ हुई  वहां 16वीं  सदी से खेल का प्रचलन राष्ट्रीय- स्तर पर प्रसिद्ध हुआ  जो धीरे -धीरे यूरोपीय और अफ्रीकी देशों के साथ होते हुए 19वीं सदी तक भारत में पहुंच चुका था I भारत में ऐसे ही एक समानांतर खेल लकड़ियों से खेला जाता था जिसका भारतीय नाम गिली -डंडा था पहली बार अंतरराष्ट्रीय मैच अधिकारिक रूप से 1877 में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध मेलबर्न क्रिकेट मैदान में टेस्ट मैच का आयोजन हुआ और पहला सीमित ओवर यानी वनडे मैच 1971 में खेला गयाI  पहले  टेस्ट में 100 और वनडे में 60 ओवर का मैच होता था परंतु बाद में टेस्ट में 90 और वनडे में ओवरों की संख्या 50 कर दी गई अब तत्कालीन क्रिकेट के विभिन्न प्रकार हो चुके हैं जिसमें T-20 सबसे लोकप्रिय है क्रिकेट राष्ट्रीय स्तर पर भारत में जिला, राज्य -स्तरीय ,रणजी, दिलीप ट्रॉफी ईरानी ट्रॉफी जैसे प्रमुख घरेलु टूर्नामेंट के साथ -साथ अंतरराष्ट्रीय मैचों का आयोजन किया जाता है क्रिकेट के सर्वोच्च संस्था जिसके  अंदर में क्रिकेट जगत की नियम और अ धिकारिक  नियंत्रण दो देशों के बीच ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में क्रिकेट जगत के लिए प्रशासनिक और नियामक संस्था आईसीसी हैI  जिसका मुख्यालय दुबई में है I मैं इस खेल को बहुत पसंद करता हूं क्योंकि यह कहीं भी चाहे शहर हो या गांव आसानी से किसी भी मैदान पर खेले जाने वाला खेल हैI  यह ज्यादा कीमती खेल नहीं है जिसकी वजह से कोई निजी समस्या आ सकेI  यह हमें एकता और अनुशासन का पाठ पढ़ाता है हमें विकट  परिस्थितियों में किस प्रकार धैर्य के साथ बल्लेबाजी- गेंदबाजी अपने प्रदर्शन पर निरंतर ध्यान देना चाहिए क्रिकेट की बारीकियों से काफी सीखने को मिलती हैI  खेल भावना के साथ और देश के लिए अपने टीम  के लिए पूरी तरीके से समर्पित होकर नि:स्वार्थ रूप से खेलने की सीख देती हैI  क्रिकेट और हमारी निजी जिंदगी दोनों का नियम एक ही जैसा है दोनों ही  निरंतर कड़ी मेहनत करने पर हारने के बाद  फिर जीत के लिए रणनीति बनाकर तैयार होने की भूख ,हमेशा एकता पैदा करने की सीख देती हैI  यह  लोगों में देश- प्रेम की भावना भी जगाती है और भारत में तो भले ही राष्ट्रीय खेल हॉकी है लेकिन क्रिकेट की दीवानगी कहीं भी किसी भी राज्य में देखने को मिल जाती है I चाहे वह गली हो मोहल्ला हो या मैदान हो स्टेडियम हो या अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मैच हो सामान्यत: क्रिकेट ही ज्यादा खेला जाता है इसीलिए क्रिकेट मेरा पसंदीदा खेल है I  

No comments:

Post a Comment