Wednesday, March 27, 2019

Essay in Hindi on जवाहरलाल नेहरू | Jawalar lal Nehru पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

पंडित जवाहरलाल नेहरू भारत के प्रथम प्रधानमंत्री थे जिन्होंने हमारे देश के करीब 15 वर्ष प्रधानमंत्री के पद पर रहकर देश की नि:स्वार्थ भाव से सेवा की हैI  जब उन्होंने प्रधानमंत्री की  कुर्सी पर आसन्न  हुए थे तो बिखरे भारत जो अभी हाल ही में न जाने कितने महापुरुषों के बलिदान के फलस्वरुप स्वतंत्र हुआ थाI  उससे  स्वदेशी संविधान और एकात्मक करना आसान नहीं था परंतु उनकी देखरेख में राष्ट्रहित के अनेकों कार्य हुए भारत की उन्नति हुई और करीब 200 वर्षों तक गुलाम रहने के बाद भारत की आजादी में भी उन्होंने प्रमुख भूमिका निभाई थी I नेहरू जी  जन नेता थे जिनका प्रभाव जनता के हर वर्गों के लोगों तक थाI   उन्हें लोग प्यार से चाचा नेहरू भी कहा करते थेI नेहरू जी का जन्म 14 नवंबर 1889 को इलाहाबाद वर्तमान में प्रयाग में हुआ था उनके पिता जो मशहूर और विद्वान वकील थे जिनका नाम पंडित मोतीलाल नेहरू था वह  पश्चिमी सभ्यता से काफी ही प्रभावित थे  और उनकी माता का नाम स्वरूप रानी नेहरू था ,  जो एक शिक्षित महिला थी  ,नेहरू जी एक शिक्षित और धनी परिवार से ताल्लुक रखते थे जो हर तरीके से ज्ञान में  भी समृद्ध थे I 

Tuesday, March 26, 2019

Essay in Hindi on बाल विवाह | Child Marriage पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

वैसे विवाह जिनमें लड़कियों की उम्र 18 वर्ष के कम हो और लड़के का 21 वर्ष से कम हो उनके संपन्न विवाह को बाल विवाह के श्रेणी में रखा जाता है I इस प्रकार के विवाह पूरे दुनिया में प्राचीन समय में प्रचलित थी परंतु भारत में तो 18वीं - 19वीं सदी में हमेशा बाल विवाह ही होते थे अभी भी संयुक्त राष्ट्र अंतरराष्ट्रीय बाल  आपात निधि रिपोर्ट के अनुसार संपूर्ण भारत में विश्व के 40% बाल विवाह होते हैंI  बाल विवाह समाज के असमानता व  शिक्षा -अशिक्षा संकीर्ण  विचार से घिरे होने के कारण होता है जो असंतुलित के साथ- साथ स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़ी घातक है I जरा सोचें जो शरीर के लिए हर उम्र के अनुसार क्रियाकलाप बनाया गया है 5 वर्ष से 25 वर्ष की आयु शिक्षा ग्रहण  कर नौकरी सभी गंभीर जिम्मेदारी कार्य को करना होता है परंतु हमारी सीमित सोच वह प्राचीन परंपरा को जीवंत रखने का प्रयास के कारण आज भी ग्रामीण और  छोटे नगरीय क्षेत्रों में अधिक बाल विवाह होते हैंI  विश्व से बाल विवाह का प्रचलन धीरे धीरे नगण्य  हो चुका है परंतु आज भी भारत में बाल विवाह होती हैI 

Monday, March 25, 2019

Essay in hindi on खुशहाल जीवन जीने का तरीका | Way to Lead a Happy Life

प्रत्येक कोई हमेशा खुश रहना चाहता है ,लोगो का हमेशा लक्ष्य होता है कि किसी भी तरीके से उस कार्य को करें  जिससे हमें आनन्द  की प्राप्ति हो I  हमें खुशहाल रखने की कार्य सर्वाधिक रूप से विज्ञान और वैज्ञानिकों ने किया है  जो हर तरीके के मनोरंजन से लेकर तकीनीकी यंत्रो तक आविष्कार करके रोजगार के अवसर के साथ -साथ व्यस्तता जिंदगी बना दिया,  जिससे लोगों  के समाजिक व्यवहार और नैतिक चीजों की सूझ-बुझ  होI सामान्यत:आनन्द और खुशियों को लेकर लोग हमेशा संदेह में रहते हैं दोनों का अर्थ अलग- अलग है क्योंकि हमें खुशियों के द्वारा आनंद की प्राप्ति होती हैI  जब भी कोई ऐसा कार्य जिससे करने में हमें किसी प्रकार की हिचकिचाहट नहीं बल्कि दिलचस्पी पैदा होता है और उसके बेहतर तरीके से करना चाहते है जिसे अन्य  लोगों के द्वारा भी समर्थन और प्रोत्साहन  मिलता है उसे ही  आनन्द समझा जाता है जबकि  खुशियां हमारे दिमाग का मनोवृति है जो आत्मविश्वास दिलाता है हमारे मनोवृति ही हमारी खुशियां को निर्धारित करती है इस प्रकार से हम समझ सकते हैं की आनन्द यानी प्रसन्नता इंद्रियों के माध्यम से प्राप्त होता है जबकि  खुशी स्वयं से ही मन के   भीतर पाया जाता है 

Essay in hindi on छठ पूजा | Chatth Puja of Bihar पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

छठ पर्व कार्तिक शुक्ल पक्ष के षष्ठी के दिन  मनाया जाने वाला एक हिंदू पर्व है I प्रमुख रूप से बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश में मनाया जाता हैI छठ  बिहार के सबसे महान  पर्व  है जो आस्था और अध्यात्म का प्रतीक हैI  यह त्यौहार काफी कठोर नियम और अनुष्ठान के साथ चार दिनो में सम्मिलित होता है इसमें सबसे पहले स्नान कर खरना ,निर्जला उपवास करना होता है इसमेंप प्रकृति को मानव जगत के लिए दिए गए उपहार और सर्वोच्च जगत के लिए सूर्य  द्वारा जनजीवन को चलाने के लिए मनुष्य द्वारा सूर्य भगवान को धन्यवाद किया जाता हैI  परंतु इस पर्व को क्यों मनाया जाता है इसके पीछे पौराणिक महत्व और कथाएं छिपी हुई हैI छठ पर्व आस्था का महापर्व के रूप में जाना जाता है बिहार और झारखंड में तो अधिकतर संख्या में मनाया जाता है वैसे अब देश के हर कोने में  विदेशों में भी छठ पर्व धूमधाम से मनाया जाता हैI

Essay in hindi on शिक्षा का महत्व | Importance of Education पे हिंदी में निबंध (लेख )

मुझे प्रसिद्ध वैज्ञानिक और हमारे पूर्व राष्ट्रपति ए  पीजे अब्दुल कलाम कि वह वाक्य याद आती है जिसमें वह बोलते हैं की गरीबी में पैदा होना कोई श्राप  नहीं और ना ही कोई अपराध है बल्कि हमेशा गरीब रहना सबसे बड़ा पाप या  नाकामी  है I वह खुद गरीबी की तंगहाल  जिंदगी से  शिक्षा  के माध्यम से पुरे विश्व में  एक सम्मानित वैज्ञानिक बनें I  शिक्षा गरीबी व समाज में असमानता ,अनैतिकता  और संक्रीणता को खत्म  करती  है I अपने आप के साथ -साथ परिवार के विकास के लिए  शिक्षा -अध्ययन बहुत जरूरी है क्योंकि शिक्षा हर वर्ग चाहे स्त्री हो या पुरुष ,हर धर्म, हर उम्र  के लोगों  के लिए स्वस्थ और शिक्षित समाज का निर्माण करते हैं I दुनिया में  साधारण से आदमी जो गरीब से गरीब है शिक्षा  द्वारा अपने  जरुरत की वो  हर चीज हासिल कर सकता है जो उसके लिए सपना था I 

Tuesday, March 19, 2019

Essay in hindi on ग्रीष्म ऋतु | Summar Season पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

ग्रीष्म ऋतु हमेशा फ़ाल्गुन के शुरुआती दिनो के बाद यानी होली के बाद से ही होती है।जिसका  प्रभाव नवम्बर तक रहती है।गर्मी हर ऋतुओ के मुकाबले काफ़ि उबाऊ और   संघर्षपूर्ण होता है जिसे झेलना लोगो कि मजबुरी होती है। उस समय लू चलती रहती है।हमेशा तापमान उच्च रहता है,सूरज के प्रकोप को झेल पाना आसान नही होता।उस समय दिन कि अवधि बढ़ जाती है और रातें छोटी होती हैं I  फिर भी कंपकंपाती ठंड से राहत मिलती है क्योंकि ठंड हमेशा से ही केवल अमीरों को लिए बनायी जाने वाली ऋतू कहलाती है क्यूंकि उस समय यथासंभव सामर्थ्य लोग हि गर्म कपडे का उपयोग कर पाते  है  जिससे ठण्ड से बचा जा सके और बेघर और निर्धन लोग असमर्थ होने के कारण हमेशा ठण्ड के प्रकोप से काल के गाल में समा जाते हैं ।गर्मी के दिन शुष्क और नीरस होति है  लहलहाति धूप मे अपना रोजमर्रा जीन्दगी का कार्य करना असम्भ्व हॊता है ,जिससे आर्थिक रुप से भी लोगो को परेशानी झेलना पड्ता है ।दिन के साथ-साथ रात भी काफी गर्मी से प्रभावित होती है  जिससे  सोना भी काफी  मुश्किल होता हैI जल का स्तर काफ़ि नीचे चले जाने के कारण गर्मी मे पानी की काफ़ि किल्लत का सामना करना पड्ता है कुए ,तालाब,नहरे,नदिया के पानी सुखने लगते है ।

Essay in hindi on रक्षाबंधन ! Raksha bandhan Festival पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

रक्षाबंधन भाई- बहनों के लिए महत्वपूर्ण पर्व है, यह प्रत्येक वर्ष श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता हैI बहन द्वारा भाई के राखी जिसे रक्षा सूत्र भी कहा जाता है उससे बांधने के लिए सबसे शुभ दिन माना जाता हैI राखी  रेशम धागे के डोर हो या रंग -बिरंगी कीमती आभूषण वाले राखी सभी  राखियों का एक ही महत्व होता हैI  भाई द्वारा बहन के हर संकट में रक्षा करना इसीलिए राखी को रक्षा -सूत्र भी कहा जाता है, हर  बहनें अपने भाई के राखी बांधती हैं इसमें उम्र की तुल्य नहीं होता बड़े हो या छोटे सभी भाइयों को बहनों द्वारा राखी बंधवाने के बाद हमेशा वचन दिया जाता है कि वे हर परिस्थिति में अपनी बहन को रक्षा करेंगेI इस पर्व  को लेकर भाई से ज्यादा बहनों में अत्याधिक उत्साह देखने को मिलती है, रक्षाबंधन के त्योहार को लेकर  सभी नौकरीपेशा हों या व्यापार में या देश -विदेश किसी भी व्यवसाय से सम्मिलित बहने एवं भाई एक दूसरे के घर पहुंचकर इस खास मौके पर राखी बांधती है और अपने भाई को लंबी उम्र की दुआ करती हैं, वहीं पर भाई भी उनके स्नेह को बरकरार रख कर हर परिस्थितियों में उन्हें रक्षा व सहायता करने का वचन देता है Iहमें याद है बचपन के दिनों से ही रक्षाबंधन  हम दोनों भाई बहनों के लिए बहुत ही खुशियाँ वाला  पर्व हुआ करता था और आज भी हुआ करता है उस दिन हमेशा बहन का  हुक्म चलती है और बहन छोटी हो तो और भी जिम्मेवारी बढ़ जाती हैI रक्षाबंधन के दिन राखी के बाद भाई- बहन एक दूसरे को मिठाई खिलाते हैं और भाई कुछ उपहार के रूप में अपनी बहन को भेंट  देता है, रक्षाबंधन एक पवित्र त्यौहार  है जो भाई -बहन के रिश्ते को मजबूत करता है और दोनों को पवित्र प्रेम को  दर्शाता है, उस दिन भाई अपनी बहन की छोटी-मोटी गलतियों को माफ करता है और बहनें  अपने भाई की छोटी-मोटी गलतियों को माफ कर एक दूसरे को हर परिस्थितियों में एक होने की वचन देते हैंI 

Saturday, March 16, 2019

Essay in hindi on आतंकवाद | Terrorism पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

आतंकवाद आतंक शब्द से उत्पन्न हुआ है, जिसका अर्थ हिंसात्मक और अनैतिक रुप से  हिंसा और दहशत फैलाना है या तानाशाही रवैया और बल-पूर्वक अपने विचारधारा को मानने पर मजबूर करते हैं ।यह  निर्दोष  लॊगो पर हथियारों से लैस उन पर हमला करते हैं ऐसे ही कार्य करने वाले को आंतकवादी कहा जाता है। इनका तरह-तरह के रूप होता है  लोगों में मनोवैज्ञानिक रूप से भी  सरकार और गणमान्य लोगों के प्रति भड़काने  का कार्य करते हैं । यह एक प्रकार के हिंसात्मक  गतिविधि के रूप में कहा जा सकता है जो कि अपने धार्मिक ,आर्थिक, राजनीतिक एवं तानाशही विचारधारा और लक्ष्य की पूर्ति के लिए गैर कानूनी, अनैतिक कार्य निर्दोष नागरिकों के बिच धार्मिक हिंसा उन्माद आतंकवाद के रूप में सम्मिलित किया जाता है ।वैसे लोग जो देश के संविधान का अवमानना ,देश के विरुद्ध खड़ा होना अन्य देशों के मासूम बच्चों को शिकार बनाते हैं वैसे तो आंतकवादी का कोई  जात या धर्म नहीं होता वह अपने विचारधारा, वह अपनी बात मनवाने के लिए मारने और डराने  का काम  करते हैं परंतु करीब  वर्षों से अग्रवादी हमले में विशेष इस्लामिक नारे अल्लाह हू अकबर नारे और वह सभी को इस्लाम धर्म अपनाने की बात करते हैंI बल्कि उन्हें खुद इस्लाम या किसी भी धर्म के बारे में कुछ पता नहीं होता उनका मकसद होता है बस एक मनोवैज्ञानिक दबाव के रूप में या एक सिरफिरे के रूप में अपनी बात को रखना और किसी से इस बात को लागू करवाना वैसे आंतकवादी लोग अपने परिवार के हित के सोचते हैं ना ही अपने घर नहीं जाती नहीं समुदाय ।

Wednesday, March 13, 2019

Essay in hindi on क्रिकेट | Cricket पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

Cricket मेरा पसंदीदा खेल क्रिकेट है I मैं हमेशा इस खेल को खेलता हूं स्कूली दिनों से ही क्रिकेट से मेरा बचपन से जुड़ाव हैI  वैसे तो हमारे विद्यालय में कई प्रकार के खेल का आयोजन होता था परंतु मेरी तरह अधिकतर सहपाठी  क्रिकेट को तवज्जो ज्यादा देते थे क्योंकि क्रिकेट जितना खेलने में मजा आता है उतना ही देखने में भीI  खेल हमें अनुशासन और ऊर्जावान  बनाता है इसलिए विशेष रूप से शनिवार और हर रविवार क्रिकेट मैच का आयोजन दूसरे विद्यालय के छात्रों के साथ हमेशा विद्यालय द्वारा करवाया जाता थाI  जिनमें दो अलग- अलग टीम सम्मिलित होते थे चौथी कक्षा से  सातवीं कक्षा तक जूनियर और सातवीं से दसवीं तक सीनियर टीम बनाई जाती थी ,मैंने हर खेल के प्रति लोगों  का झुकाव देखा है परंतु एक खिलाड़ी होने के नाते ही नहीं बल्कि एक खेल -प्रेमी व दर्शक होने के नाते पूरे भारत में क्रिकेट सबसे ज्यादा लोकप्रिय खेल है I

Tuesday, March 12, 2019

Essay in hindi on दुर्गा पूजा (दशहरा) | Durga puja Dusharra festival पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

दुर्गा पूजा को दशहरा ,विजयदशमी और नवरात्र कहा जाता है I यह हिंदुओं का प्रसिद्ध त्योहार हैI  यह पर्व  बंगाल, बिहार, झारखंड ,उत्तर प्रदेश सहित पुरे देश  में बड़ी ही धूमधाम से मनाई जाती हैI  दुर्गा पूजा क्यों मनाया जाता है ?इसके बारे में बहुत सारे पौराणिक कथाएं प्रचलित है ,परंतु कुछ प्रसिद्ध कथाओं में से  एक कथा आज ही के दिन श्री रामचंद्र ने रावण का वध करके  लंका में विजय प्राप्त की  थीI जिसके फलस्वरूप विजय दशमी अर्थात दशहरा का पर्व धूमधाम से पूरे देश में मनाया जाता है I उस दिन ना केवल लंका,अयोध्या बल्कि स्वर्गलोक  से लेकर पाताललोक तक सभी जगह लोग ढोल- नगाड़ों के साथ अध्यात्मिक भजन- कीर्तन गाकर, वंदना कर अधर्मी रावण के आतंक से हमेशा के लिए मुक्त होने पर भगवान राम ,लक्ष्मण, सीता सहित उस युद्ध में शामिल होने वाले हर वीर योद्धाओं का स्वागत किया गया थाI 

Essay in hindi on क्रिसमस | Festival Christmas 25 December पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

क्रिसमस को बड़ा दिन भी कहा जाता है,यह पर्व परमेश्वर यीशु के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है  I क्रिसमस ईसाईयों का एक प्रसिद्ध त्योहार है सबसे खास बात यह है की यह हमेशा 25 दिसंबर को संपूर्ण विश्व में एक साथ मनाया जाता हैI  क्रिसमस दिसंबर महीना में जब आता है तो उसकी तैयारियां जोर- शोर से दिसंबर के शुरुआती दिनों से ही  आरंभ हो जाती है ,भारत से अधिक वैसे देश जहां ईसाईयों का बहुलता अधिक है वहां इसे और भी भव्य तरीके से मनाया जाता है I परमेश्वर यीशु का जन्म इसी दिन हुआ था उन्हें परमेश्वर का पुत्र कहा जाता हैI  यीशु मसीह को इस्लाम में ईसा कहा जाता है I इनके  माता मरियम और पिता का नाम जोसेफ था क्रिसमस का त्योहार आते हीं  लोग हर्षोल्लास- उत्साह के साथ इसकी तैयारियां करते हैं बच्चों और  विद्यार्थियों में सबसे अधिक उत्साह देखने को मिलती है क्योंकि विद्यालयों एवं कॉलेजों में विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होता है जिस के संदर्भ में करीब 10 दिन पहले से ही नाट्य रूपांतरण और समाज के हित में प्रेरणादाई भाषण की तैयारियां जोर- शोर से होती है जिसमें  विद्यार्थी और शिक्षक  मिलकर इस आयोजन को सफल बनाते हैं I

Friday, March 8, 2019

Essay in hindi on सह-शिक्षा | Co Education पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

कुछ विद्यालय ऐसे होते हैं जहाँ लड़के या लड़कियों की अलग पढ़ाई की व्यवस्था की जाती है I उस  विद्यालय में अगर लड़की पढ़ती है तो  लड़के का नामांकन नहीं होता ठीक उसी प्रकार जहां लड़के पढ़ते हैं वहां लड़कियों का नामांकन नहीं होता परंतु कुछ विद्यालय ऐसे भी हैं जहां छात्र एवं छात्राएं एक साथ बैठकर एक ही कक्षा में पढ़ते हैंI  जहां दोनों को समान  शिक्षक द्वारा शिक्षा प्रदान की जाती है,ऐसी  शिक्षा व्यवस्था को सह  शिक्षा प्रणाली कहा जाता हैI सह शिक्षा का अर्थ है जहां छात्र और छात्राएं एक साथ बैठकर पढ़ाई करते हैंI आज  शहरों में  उच्च व निजी   विद्यालयों में सह शिक्षा प्रणाली पूरी तरह से समान  है और अनिवार्य  भी परंतु आज भी छोटे नगरों  व ग्रामीण विद्यालय में इस प्रकार की शिक्षा प्रणाली विवाद बना हुआ है कुछ बुद्धिजीवियों के मानना है कि जीवन चक्र के दो पहिया पुरुषों और औरतें हैं  दोनों को  मिलकर पहिये को खींचना है इसलिए दोनों को भविष्य में एक साथ ही जिम्मेदारी अपने कंधे पर उठानी है इसलिए कोई भी क्षतियाँ सह-शिक्षा में नहीं है क्योंकि अगर छात्र एवं छात्राएं एक साथ शिक्षा ग्रहण  करते हैं तो एक दूसरे को भावनात्मक रूप से अच्छी तरह से समझते हैं जिसके कारण सामान्य दोस्त की तरह व्यवहार करते हैं जिससे कभी  हानि नहीं पहुंचा सकते क्योंकि उन्हें एक दूसरे से व्यवहारिक संबंध बनते हैं जिससे भविष्य में किसी प्रकार के दुर्व्यवहार अनैतिक कार्यों का बढ़ावा अच्छी नहीं लगतीI 

Essay in hindi on ईद | Festival Eid पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

ईद मुसलमानों का प्रसिद्ध त्योहार है जिसका बेसब्री से लोगों को इंतजार रहता है I यह  विश्व के  साथ -साथ  पुरे  भारत में बड़ी तैयारी के साथ धूमधाम से मनाया जाता हैI  ईद एकता एवं आपसी मेल-जोल का प्रतीक है I  ईद -उल- फितर इस्लामी कैलेंडर के अनुसार दसवें महीने के पहले दिन मनाया जाता है यह  इस्लामी कैलेंडर के सभी महीनों के समान चांद के दिखाई देने पर शुरू होता है I  उस समय रमजान का पाक महीना में पूरा महीना व्रत रखा जाता है रोज सुबह जल व कुछ खा कर बिना पानी के पूरे दिन- भर रहना पड़ता है और उसके बाद पुनः शाम को रोजा तोड़ा जाता है I इसके लिए अल्लाह  आशीर्वाद ,ऊर्जा सभी में प्रदान करते हैं  जिसके कारण तापमान अधिक होने के कारण भी लू के समय भी प्यास के मारे गला सुखता है फिर भी लोग धैर्य के साथ आस्था व  अध्यात्म के प्रति निष्ठावान रहना हमें ईद सिखाता है I रमजान का महीना सबसे पाक महीना है इस समय लोग हर जरूरतमंदों को दान करते हैं और अपने कमाई हुई अंश का थोड़ा भाग ईद के दिन ईदी के   तौर पर दिया जाता हैI  रमजान के पूरे एक  मास बात आसमान में ईद के चांद के दर्शन होते ही इसकी घोषणा हो जाती है ईद की ,  ईद के दिन सुबह --सुबह लोग उठ कर नहा- धोकर नए-नए कपड़े पहनकर मस्जिद में सबसे पहले  नमाज पढ़ते हैं I   फिर हर समुदाय, धर्म के लोगों  को अपने घर पर आमंत्रित किया जाता है और पकवान का लुफ्त उठाया जाता हैI  बच्चे ,बुजुर्ग, महिलाएं सभी लोग गले लगा कर एक दूसरे का अमन चैन व तरक्की की कामना करते हैंI 

Tuesday, March 5, 2019

Essay in hindi on कृषि | Agriculture पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

हमारा देश कृषि प्रधान देश है जहां आज भी लगभग ६० फीसदी  लोग कृषि पर निर्भर रहते हैं|  हम जनसंख्या के लिहाज से पूरे विश्व में दूसरे स्थान पर काबिज है जहां सामान्यत: लोग गांव में रहते हैं और अपने खेतों में खेती-बाड़ी कर जीविका चलाते है I उन्हीं में से कोई बहुत बड़ा किसान तो कोई गरीब किसान होते हैं अर्थात कहने का तात्पर्य यह है कि भारतीय किसानों के स्थिति उतनी संतोषजनक नहीं होती इसके लिए काफी हद तक प्रकृति पर भी निर्भर रहना पड़ता हैI  अगर मौसम खेती के अनुरूप ना हो तो काफी नुकसान झेलना पड़ता है कभी सूखा तो ,कहीं बाढ़  तो कहीं ओला न जाने ऐसे कितने भी आपदाएं  झेल कर भी किसान अपने कर्तव्य का इमानदारीपूर्वक निर्वाहन करते  हैI   किसानों के हालात  संतोषजनक न  होने के कारण यह भी है  अधिक  किसान गांव में  रहते हैं उनमें से अधिक कम शिक्षित होते हैं जो खेती करने के सही विधि नहीं जान पाते परंतु वह अपने अनुभव व पूर्वजों के बताए गए मार्ग पर चल कर इमानदारी से मौसम अनुसार फसलें उपजाया करते हैंI

Essay in hindi on ताजमहल | Tajmahal पे हिंदी में निबंध (लेख ) nibandh lekh

बात उस समय कि है जब हम विद्यार्थी जीवन मे थे उस समय हमारे विद्यालय मे हमेशा  छुट्टीयो मे कोई ऐतिहासिक स्थल या पर्यटन स्थल घूमया जाता था I जो हमारे देश कि गर्व और भव्यता का प्रतिक हो। जिससे  हमें  प्राचीन भारत और हमारे संस्कृति के बारे में अधिक से अधीक जानकर अपनी ज्ञान  में वृद्धि कर सकें I उनमे से कुछ ऐतिहासिक महत्व रखने के साथ- साथ  अपनी आश्चर्यजनक सुन्दरता के लिये विश्व मे प्रख्यात होते थे  ऐसी स्थलो मॆ सबसे ज्यादा उत्सुकता ताजमहल देखनॆ के समय हमारे अन्दर थी। ताजमहल  मुगल सम्राट शाहजहा द्वारा बनाया गया था जो अपने प्रियतमा बेगम मुमताज महल के यादों में उनके कब्र के पास ही बनाया गया  इसकी भव्यता व सुंदरता की  जीतनी तारीफ की जाय शब्दों की कमी पड़ जाएगी ,चांदनी रात में इसकी चमक दूर -दूर से ही दिखाई पड़ती है जैसे  कोई कोहिनूर हीरा कोयले की खान में सी चमक रही होI  हमें याद है कि मैंने अपने शिक्षकों से अनुरोध किया था की कम से कम इसके बारे में अध्ययन और अधिक जानकारी के लिए दो-तीन दिन यहीं पर रुक अध्ययन किया जाए इसके पीछे हमारी मकसद यही था  इस  ताजमहल को हमेशा देखते रहें I ताजमहल आधुनिक में व भविष्य में भी सबसे आश्चर्यजनक भवनों में शुमार रहेगा मुगल वास्तुकला का सबसे उत्कृष्ट नमूना जिसके वास्तुकार ना सिर्फ  भारतीय बल्कि अफगानी ,फारसी अनेकों यूरोपीय ने मिलकर इसका निर्माण किया थाI

Saturday, March 2, 2019

Essay in hindi on महात्मा गांधी | Father of Nation Mahatma Gandhi पे हिंदी में निबंध (लेख )

भारत में अनेकों महापुरुष व महान व्यक्ति पैदा हुए हैं उन्हीं में से एक महापुरुष थे हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी  I  लोकप्रियता के साथ- साथ सादगी विचारधारा वाले महात्मा गांधी का नाम मोहनदास करमचंद गांधी था ,वह अन्याय के सामने कभी न झुकने के कारण पूरा विश्व में प्रेरणीय हैI उन्होंने भारत के आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाया उनका जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था उनके पिता राजकोट के दीवान थे जिनका नाम करमचंद गांधी था ,  माता का नाम पुतलीबाई था जो काफी अध्यात्मिक थीI  महात्मा गांधी अपनी मां के आध्यात्मिक विचार से काफी प्रभावित थेI उनसे प्रभावित होने की वजह  से ही हमेशा शाकाहारी जीवन व्यतीत कियाI संपूर्ण अहिंसा के मार्ग पर चलकर उन्होंने अन्याय के खिलाफ लड़ाई लड़ी जिसमे वो सफल हुए  जिससे  विश्वभर के लोगों में प्रेरणीय हुए Iगांधी जी ने अपने प्रारंभिक शिक्षा स्थानीय प्राथमिक विद्यालय तथा उच्च विद्यालय में प्राप्त कीयाI   गांधीजी  ने खुद अपनी आत्मकथा में लिखा है कि मैं पढ़ने में  मेधावी छात्र नहीं था परंतु आज्ञाकारी और सब को आदर करने के कारण अपने  शिक्षकों के बीच काफी प्यारा था I बचपन में उन्होंने गलत संगत भी लगे परंतु जल्द  उन्हें अपनी गलती का आभास हुआ और सभी बुराइयों को त्याग दिए, गांधीजी मैट्रिक के इम्तिहान के बाद वे विधि व कानून की पढ़ाई करने इंग्लैंड 1887 में गए क्यूंकि उनके घर वाले चाहते थे की वह बैरिस्टर बनें I