Thursday, January 10, 2019

Essay in hindi on इंटरनेट | Internet पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

                         

 इंटरनेट आधुनिक विज्ञान का एक आश्चर्यजनक उपयोगी अविष्कार है I इंटरनेट का अर्थ होता है अंतरजाल , जिस पर यह बिल्कुल खरा उतरता है I यह सारे संसार के लोगों के बीच तालमेल बैठाकर एक दूसरे को परिचित कराने का काम किया है ,इंटरनेट के माध्यम से हम वह हर काम कर सकते हैं जो उपयोगी एवं अनिवार्य होI  इंटरनेट का असर किसी भी क्षेत्र से अब अछूता नहीं है ,चाहे वह  व्यापार, उद्योग, शिक्षण, सरकारी, गैर- सरकारी दस्तावेजों का अवलोकन  कागजी लेखा-जोखा या  किसी के साथ बातचीत करना होI   वीडियो के माध्यम से हम एक दूसरे को क्रियाशील माध्यम में नजर रखना इत्यादि सभी चीजें अब इंटरनेट के माध्यम से संभव है I इंटरनेट नेटवर्किंग का सूचना का वेब है ,जो कंप्यूटर डिवाइस को विश्व स्तर पर एक साथ जोड़ता है , यह एक ऐसा नेटवर्क है जिससे किसी भी कंप्यूटर डिवाइसेज इसके माध्यम से अन्य कंप्यूटर डिवाइसेज से संपर्क करते हैंI  अर्थात यह परस्पर  जुड़े हुए कंप्यूटर नेटवर्क की वैश्विक प्रणाली है ,जिसके माध्यम से सूचना का आदान- प्रदान किया जाता हैI 
इंटरनेट विश्व भर में अरबों लोगों को सेवा प्रदान करता है , चाहे वह डाटा, समाचार, राय, मनोरंजन या  किसी भी योजनाओं तथा पहल पर अवलोकन करना होI  इंटरनेट “ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल’ तथा “इंटरनेट प्रोटोकोल” का उपयोग करता है, इसलिए इन्हें  इंटरनेट का रीढ़  का हड्डी का भी  कहा जाता हैI  इंटरनेट के पास सूचनाएं किसी भी विभागीय  संसाधनों की जानकारी का विशाल महासागर हैI 

 आज के आधुनिक समय में बिना इंटरनेट का घरेलू जीवन भी संभव नहीं है I पहली बार भारत में 15 अगस्त 1995 को “विदेश संचार निगम लिमिटेड” और “इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर” द्वारा इंटरनेट का सेवा लॉन्च किया गयाI अगर हम चाहे तो किसी भी वक्त पर इसका उपयोग मोबाइल, लैपटॉप, कंप्यूटर जैसे उपकरणों पर कर सकते हैंI  इंटरनेट की भागीदारी सार्वजनिक, सरकारी कार्यालयों में दस्तावेज हेतु निजी क्षेत्रों में वाणिज्यिक, उद्योगों ,शिक्षा से लेकर मनोरंजन तक का हैI  इंटरनेट के जरिए किसी भी प्रकार के शिक्षा ,कला, व्यापार या व्यवसाय के उपयोग में कर सकते हैंI  इंटरनेट डिजिटल क्रांति का एक महत्वपूर्ण अध्याय है, सर्वप्रथम इंटरनेट का उत्पति अमेरिका में 1969 में हुआ थाI कंप्यूटर नेटवर्क के माध्यम से मजबूत संचार के निर्माण के लिए शुरू की गई थीI  इंटरनेट इंसान के जीवन का महत्वपूर्ण अंग बन गया है यह  रोजमर्रा जिंदगी के कि लगभग हर पहलू में  शामिल हैI  इंटरनेट के त्वरित संदेशों का आदान -प्रदान और सोशल नेटवर्किंग के माध्यम से व्यक्तिगत रूप में सक्षम प्रभावी हो गया है I आज के दौर में किसी भी प्रकार का बड़े या छोटे खरीदारी करना या बेचने का माध्यम के कारण व्यवसायिको  और उद्यमियों के लिए भी सबसे पसंदीदा क्षेत्र बन गया है I 

इंटरनेट के जरिए लाखो विद्यार्थी बड़े-बड़े शहरों और संस्थानों के शिक्षकगणों से बिना  उस शहर के रुख  किए बिना भी कम से कम संसाधन व पैसों की माध्यम से अपना भविष्य संवार  रहे हैं, इसके तेजी से  वृद्धि के कारण पूरी तरह घरेलू एवं व्यक्तिगत हो गया हैI  रेडियो, टेलीविजन अधिकांश वैसे उपकरण जिससे संचार संबंधित कार्य होते थे ,सभी को एक सूत्र में बांधने का काम इंटरनेट ने किया हैI  इंटरनेट के लिए मुख्यतः उपकरणों में कंप्यूटर, मॉडेम ,वेब ब्राउजर, डिवाइसेज ,इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडरआदि  रहना आवश्यक है I इंटरनेट के बढ़ते प्रभाव और सुविधाओं को देखते हुए भारत सरकार ने नागरिकों के लिए डिजिटल इंडिया के नाम से एक पहल की शुरुआत भी किया है, जिसके माध्यम से सरकार की क्रियान्यवन  योजनाओं से जनता का सीधा संबंध स्थापित करना हैI  इसका उपयोग ईमेल संदेश, ऑनलाइन बातचीत करने के लिए भी होता हैI  इंटरनेट के माध्यम से ऐसी जानकारियां जो हमारे उपयोग की हो हम उसे सुरक्षित अपने पास सेव भी कर सकते हैंI  वस्तुत: आधुनिक विज्ञान का एक बड़ा उपयोगी वरदान है इंटरनेटIइससे जहां जीवन आसान और फायदेमंद हुआ है वहीं इसका दुष्प्रभाव भी देखने को मिला है ,आज के दौर में बच्चों, विद्यार्थियों ,युवाओं में धड़ल्ले से इसका उपयोग के कारण यह कोई नशे के समान हो गया है, जिससे ना केवल समय की बर्बादी बल्कि ढेर सारी रोगों का घर भी बन गया हैI अभिभावक के बिना निगरानी के छात्रों द्वारा इंटरनेट का दुरुपयोग भी काफी तेजी से होता है यह हमारे किसी भी निजी क्षेत्र के गुप्त रखे गए सूचनाएं को भी सार्वजनिक करने में सक्षम है I इसके माध्यम से यौन विकृति और अपराधिक कार्यों जैसे  घटनाओं में भी इजाफा हुआ है,इसलिए हमें इंटरनेट के सदा सदुपयोग करने की आवश्यकता है जिससे हम अपने ज्ञान को बढ़ाने के साथ -साथ आधुनिकता  वाले दौर में कदम से कदम मिला कर चल सकेंI  

No comments:

Post a Comment