Monday, January 28, 2019

Essay in hindi on सफलता के लिए गुण | Successful in Life goal पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

            
जीवन में संघर्ष और दु:ख से दूरी बनाना कठिन है और कमजोरी भी, क्योंकि जीवन संघर्ष से परिपूर्ण हैI इससे जगत में हर प्राणी चाहे मनुष्य हॊ या जीव-जंतु, सभी लोग संघर्ष और दु:ख से निकलने के लिए हमेशा ही उत्सुक रहते हैं क्योंकि कोई भी संघर्ष व दु:ख अधिक नहीं सहन करना चाहता I संघर्ष का अर्थ केवल कठिन परिश्रम करना ही नहीं है बल्कि जिस क्षेत्र में वह कठिन परिश्रम कर रहा है उसके बावजूद उसे अपेक्षित सफलता ना मिले, फिर भी सकारात्मक सोच के साथ लगातार परिश्रम जारी रख रहा है वहि संघर्ष का पर्याय है I यह नहीं कहा जा सकता कि पूरे विश्व में प्रत्येक व्यक्ति सफल हो क्योंकि किसी विद्वान ने कहा है कि असफलता एक सामान्य बात है पर सफल होना एक अपवाद की तरह है I

Saturday, January 26, 2019

Essay in Hindi on गाय | Cow पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

                           
गाय एक पालतू जानवर है ,गाय को विश्व की अपेक्षा भारत मे जानवरों में सबसे महत्वपूर्ण माना जाता हैI  प्राचीन काल से ही भारत में गायों के प्रति अध्यात्मिक, व्यवसायिक रूप से काफी अहम माना गया हैI गाय का विशेषकर हिंदू धर्म में माता का रूप दिया गया है जो देवी- देवताओं के भाँती पूजनीय हैं, गाय के चार पैर,दो सींग एक लंबी पूछ है होती है I गाय के पैरों में  खुर होते हैं जो उनके दलदली व ऊँचे -नीचे  जैसे स्थानों में भी आसानी से चलने में मदद करता है ,गाय के बारे में आध्यात्मिक रूप से अगर बात किया जाए तो गाय का गोबर एवं मूत्र काफी पवित्र है जो कि हर सत्संग ,पूजा- पाठ के प्रारंभ में  गाय के गोबर से पुताई करना उस पूजा स्थल को शुद्ध माना गया है I गाय का मूत्र को गंगाजल की भांति ही पवित्र माना गया है ,गाय को गौ भी  कहा जाता है, गाय में ऐसा माना गया है कि सर्वाधिक देवी -देवताओं का वास हैI  गाय के दूध से मक्खन , दही, मिष्ठान आदि में प्रयोग की जाती  हैI सभी जानवरों जो घरेलू व मनुष्यों के दूध देने का कार्य करती हैं उनमें गाय सर्वश्रेष्ठ हैI 

Thursday, January 24, 2019

Essay in Hindi on समाचारपत्र News Paper पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

                
देश-विदेश की वर्तमान स्थिति और उनके बारे में पूरे विस्तृत जानकारी हमें समाचारपत्र के माध्यम से मिलती है। समाचारपत्र को देश का चौथा स्तंभ के रूप में माना गया है, यह हमेशा से ही हमारे लिए उपयोगी रहा है चाहे वह अंग्रेजों कि सरकार को उखाड़ फेंकने में और युवाओं में जोश भर कर क्रांति लाने में या वर्तमान दौर में किसी भी सत्ता काबीज सरकार को कुर्सी उखाड़ फेंकने में समाचार पत्र की भूमिका अहम है। खेल, राजनीतिक फिल्में ,राष्ट्रीय,अंतरराष्ट्रीय, क्षेत्रीय आदि खबरें हमें समाचार पत्र द्वारा मिलती है।  प्रसिद्ध लेखकों ,नेताओं ,विद्वानों  के विचार को जनता के पास पहुंचाने का कार्य करता है। यह सरकार और जनता के बीच पुलिया का कार्य करता है,इसका प्रभाव व शक्ति का उपयोग हमेशा न्यायपालिका व सरकारों के चल रहे अनेकों  योजनाओं के बारे में विस्तृत सूचना दे कर जनता को जागरूक करने का कार्य करता है ,वैसे तो आधुनिक युग में विज्ञान द्वारा अनेकों उपकरणों के माध्यम से संचार व्यवस्था काफी तेजी से कार्य करता है हम मिनटों में देश -विदेश की खबरें की जानकारियां हमें इंटरनेट व टेलीविजन, रेडियो आदि जैसे उपकरणों के माध्यम से मिल जाती है

Tuesday, January 22, 2019

Essay in Hindi on झांसी की रानी | Jhansi ki Rani पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

                    
भारत हमेशा से ही वीरता और विद्वानों के लिए प्रसिद्ध हैI  भारत एक शांतिप्रिय देश है जहां आपसी प्रेम और अहिंसा के साथ- साथ अनुशासन लोगों के रग-रग में बसा हुआ है, यहां के लोग जितने परिश्रमी वह दयालु हैं शायद ही कहीं देखने को मिले ,यहां अतिथियों को भगवान माना जाता है  परंतु जब भी कोई बाहरी आक्रमण भारत पर बुरी नजर डालता है तो उन्हें ईंट  का जवाब पत्थर से दिया जाता है I  देशसेवा और राज्यधर्म के लिए लोग नि:स्वार्थ रूप से अपना सब कुछ न्यौछावर कर देते हैं, ऐसे वीर-वीरांगनाओं की परिचय देना भारत में  सूर्य को दीया दिखाने के समान है क्योंकि भारत में वीर-वीरांगनाओं कि ऐसी अनेको कथाएं हैं जिन्होंने अपने देश स्वराज के रक्षा करते हुए अपना सब कुछ न्यौछावर कर दियाI 

Saturday, January 19, 2019

Essay in Hindi on खेल का महत्व | Importance of Sports & Games पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

                
किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए हमें अपनी जिंदगी को ऊर्जा से भरपूर के साथ-साथ सकारात्मक सोच बहुत जरूरी है I  इसके लिए स्वस्थ रहना बेहद जरूरी है या यूं कहें कि स्वास्थ्य ही धन है अगर हम स्वस्थ हैं तो सुंदर, धनी, बुद्धिमान एवं प्रतिष्ठित बनते हैI स्वास्थ्य को बनाए रखने में खेल का महत्वपूर्ण योगदान हैI अगर हम स्वस्थ ना रहें तो हम कोई भी कार्य  सही ढंग से नहीं कर सकते , चाहे वह छोटी कार्य हो या बड़ी कार्य क्योंकि बीमार और अस्वस्थ व्यक्ति किसी को पसंद नहीं क्योंकि ना तो वह मानसिक रूप से सक्रिय होकर बेहतर सुझाव दे सकते हैं और ना ही कठिन परिश्रम ही कर सकते I जो अस्वस्थ होते हैं वह मंदबुद्धि के हो जाते हैं जिसके कारण उन्हें पढ़ाई या किसी और भी कार्य जिसमें कठिन परिश्रम करना हो वह पीछे रह जाते हैंI खेल ना केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी पूरी ताजगी महसूस कराता है, जो इंसान को ऊर्जावान ,शारीरिक रूप से और मानसिक रूप से सकरात्मक सपनों से भरपूर रहने में मदद करता हैI  खेल हमारे शारीरिक क्षमता के साथ- साथ कौशल को सुधारने हेतु में मदद करता है किसी भी व्यक्ति को सफल और खुशहाल  जीवन जीने के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से फीट रहना होता है जिसमें खेल की भूमिका काफी अहम है I खेल को चाहे वह निजी जिंदगी हो या पेशेवर दोनों ही माध्यम से यह हमारे लिए फायदेमंद है निजी जिंदगी की बात करें तो हमारे व्यस्त एवं भागदौड़ भरे जीवन के कार्यक्रम में यह तनाव और थकावट को दूर कर तंदुरुस्त और ऊर्जावान बनाता है I वहीं खेल के किसी प्रकार को हम पेशेवर की तरह अपने लक्ष्य  बनाने पर जीविका के साथ -साथ प्रतिष्ठा व भी देता हैI 

Friday, January 18, 2019

Essay in hindi on मातृभूमि | Motherland पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

             
 मैं अपने मातृभूमि से बहुत प्यार करता हूं, मातृभूमि का आशय यह है कि जो जिस देश या स्थान पर जन्म लेता है वही उसकी जन्मभूमि या मातृभूमि कहलाता है I  मुझे अपने देश के नाम लेते हि  गर्व के साथ समर्पण व अनुशासन की भावना जागृत होती है I दुनिया के सर्वश्रेष्ठ देशों में से एक प्राकृतिक सुंदरता व भव्यता के कारण मुझे मेरी मातृभूमि से विशेष  लगाव है और गर्व भी  कि मैं एक भारतीय हूंI मेरा जन्म “भारत” देश में हुआI  इस देश का विशेषता का वर्णन करना  शब्दों में संभव नहीं है I भारत हर क्षेत्रों  में दुनिया के लिए प्रेरणीय  है I सभी लोगों को अभिलाषा  होती है, एक बार हमारी मातृभूमि पर आने का सौभाग्य प्राप्त होI प्राकृतिक सुंदरता, संस्कृति अलग-अलग सभ्यता से भरपूर है हमारा देश ,उसके बावजूद सभी लोग एक ही रंग में रंगे हैंI  संस्कृति भले ही अलग है भाषाएं अलग है ,लेकिन लोगों के मन में एक ही एहसास है भारतीय होने पर गर्वI  हमारे देश को लगभग 3 भागों में विभाजित किया जा सकता है उत्तरी पहाड़ी क्षेत्र, उपजाऊ मैदान और दक्कन (दक्षिणी)I  उत्तरी क्षेत्र में हिमालय और उसके विभिन्न शाखाओं के लिए जाना जाता है जो हमारे लिए काफी उपयोगी है , कृषि प्रधान देशों में सर्वश्रेष्ठ भारत में फसलें उपजाऊ का प्रमुख कारण हिमालय एवं उनके अन्य शाखाओं से ही  संभव है, जो प्राकृतिक सौंदर्य बढ़ाने के साथ-साथ इनका जलवायु ठंड होने के कारण पर्यटकों को तो  आकर्षित करता ही है, साथ ही साथ प्रमुख नदियां- गंगा, यमुना ,ब्रह्मपुत्र आदि जैसे नदियां यहीं से होकर गुजरती हैI  जिनके बहाव के कारण उपजाऊ मिट्टी खेत में पहुंचती है इसलिए इन्हें भारत के समृद्धि भी बोल  सकते हैं I यहां की जलवायु शुद्ध वातावरण के कारण स्वास्थ्य के लिए सबसे अधिक लाभदायक हैI हिमालय का सर्वोच्च शिखर माउंट एवरेस्ट विश्व का सर्वोच्च शिखर भी हैI  यह हमारे अभिवावक के तौर पर भी जाने जाते हैंI 

Thursday, January 17, 2019

Essay in Hindi on जीवन का लक्ष्य | for School Students पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

                 
किसी विद्वान ने कहा है कि कर्म ही पूजा है, क्योंकि हम जो भी जिंदगी में करते हैं उसी के अनुसार फल मिलता है I कोई प्रतिष्ठित व्यक्ति तो कोई घृणित ,अमीर , गरीब ,मध्यमवर्ग आदि जैसे वर्ग में शामिल हो जाते हैंI हमें  जीविका चलाने के लिए हमेशा कार्य करना होता है , जिसके पास धन की कमी नहीं है वह भी आनंदित  मुद्रा में कार्य करते हैंI अगर हम कोई कर्म ही न करें तो,हमारा जीवन जानवर से भी बदतर हो जाएगा, क्योंकि जानवर को भी अपने भोजन के लिए कर्म करना पड़ता हैI मनुष्य की पहचान उनके किए गए कर्मों और लिए गए फैसलों से होता है I परिश्रम और कार्य का मतलब यह नहीं कि हम जीविका चलाने के लिए कोई भी कार्य कर ले जो घृणित हो या जिसमें आपकी कोई रुचि ना हो, बल्कि हमें सही समय पर अपना मनचाहा लक्ष्य  को निश्चय और निर्णय करने की जरूरत है और उसके बाद धैर्य के साथ नियमित कड़ा परिश्रम करके अपने लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है I परंतु कोई भी  निर्णय करने से पहले उसके बारे में जानकारी और ज्ञान होना बहुत ही जरूरी है क्योंकि हमारी मनचाहा लक्ष्य बहुत ही  सपनों की तरह होता हैI 

Tuesday, January 15, 2019

Essay in hindi on विद्यार्थी एवं परीक्षा | Student & Examination पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

                    
परीक्षा हमेशा विद्यार्थियों के मन में भय पैदा करती है ,चाहे वे मेघावी छात्र हों या औसत मगर सभी लोग के मन में एक ही अभिलाषा जागृत होती है कि किसी भी तरीके से परीक्षा के परिणाम बढ़िया आये या दूसरे शब्दों में यह कहे कि विद्यार्थियों के लिए एक जांच है परीक्षा, जो उनके परिपक्वता और आत्मविश्वास को जोड़ता है, जिससे खुद की कमियां, त्रुटियों का आकलन कर  निरंतर सुधार करते हैं I जैसे-जैसे परीक्षाएं नजदीक आने लगती है वैसे -वैसे विद्यार्थियों की मेहनत और अधिक हो जाती है उनको हमेशा डर परीक्षा की सताती है वर्तमान में भी जाकर भविष्य के बारे में सोचने लगते हैं ,जिससे उनका वर्तमान भी काफी प्रभावित होने लगता है

Essay in hindi on चुनाव (निर्वाचन) Election पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

                         
चुनाव इन दिनों विशेष मायने रखता है ,किसी भी लोकतांत्रिक देश में जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधि और सरकार का  देश पर शासन होता  है I प्रत्येक ऐसे नागरिक जो 18 वर्ष से ऊपर हो स्वतंत्रतापूर्वक अपनी इच्छानुसार वोट देने का अधिकार है, अर्थात दूसरे शब्दों में हम यह कह सकते हैं कि देश के न्यायपूर्ण संचालन का बागडोर देना जनता पर निर्भर करती हैI  इसलिए सरकार जनता के प्रति जवाबदेह हैI  देश में चुनाव की परंपरा प्राचीन समय से ही चला आ रहा है ,जब राजशाही शासन व्यवस्था था तब भी सम्राट, राजाओं व मंत्रियों द्वारा अपना उत्तराधिकारी का चुनाव करते थे, जिसमें जनता की कोई भागीदारी नहीं होती थीI  राष्ट्रीय रूप से  भारत में सर्वप्रथम चुनाव सफलतापूर्वक लॉर्ड  लिनलिथगो  के कार्यकाल में  हुआ थाI स्वतंत्र और लोकतांत्रिक देश की प्रथम पहचान स्वतंत्र रूप से वोट अर्थात मत देने का अधिकार है ,भारत एक ऐसा देश है जहां जनता को शासन संबंधी कार्य में भाग लेने का अधिकार दिया गया हैI देश में निष्पक्ष रुप से चुनाव( निर्वाचन) और जनता के हाथ में मौलिक अधिकार के साथ -साथ मूलभूत सुविधाएं प्रदान करना भारत के लोकतंत्रात्मक  राष्ट्र की पहचान हैI  भारतीय संविधान सभा का निर्माण कैबिनेट मिशन के संस्तुतियों के आधार पर किया गया था, मिशन योजना के तहत

Thursday, January 10, 2019

Essay in hindi on इंटरनेट | Internet पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

                         

 इंटरनेट आधुनिक विज्ञान का एक आश्चर्यजनक उपयोगी अविष्कार है I इंटरनेट का अर्थ होता है अंतरजाल , जिस पर यह बिल्कुल खरा उतरता है I यह सारे संसार के लोगों के बीच तालमेल बैठाकर एक दूसरे को परिचित कराने का काम किया है ,इंटरनेट के माध्यम से हम वह हर काम कर सकते हैं जो उपयोगी एवं अनिवार्य होI  इंटरनेट का असर किसी भी क्षेत्र से अब अछूता नहीं है ,चाहे वह  व्यापार, उद्योग, शिक्षण, सरकारी, गैर- सरकारी दस्तावेजों का अवलोकन  कागजी लेखा-जोखा या  किसी के साथ बातचीत करना होI   वीडियो के माध्यम से हम एक दूसरे को क्रियाशील माध्यम में नजर रखना इत्यादि सभी चीजें अब इंटरनेट के माध्यम से संभव है I इंटरनेट नेटवर्किंग का सूचना का वेब है ,जो कंप्यूटर डिवाइस को विश्व स्तर पर एक साथ जोड़ता है , यह एक ऐसा नेटवर्क है जिससे किसी भी कंप्यूटर डिवाइसेज इसके माध्यम से अन्य कंप्यूटर डिवाइसेज से संपर्क करते हैंI  अर्थात यह परस्पर  जुड़े हुए कंप्यूटर नेटवर्क की वैश्विक प्रणाली है ,जिसके माध्यम से सूचना का आदान- प्रदान किया जाता हैI 

Essay in hindi on सरस्वती पूजा | Saraswati puja पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

                       
 सरस्वती पूजा माघ महीने में शुक्ल पक्ष के वसंतपंचमी के दिन मनाई जाती है, सरस्वती मां को विद्या एवं बुद्धि की परम देवी माना गया है, माता सरस्वती के कृपा से मानव एवं जीव -जंतुओं को वाणी प्राप्त हुआIसरस्वती पूजा विद्यार्थियों के बीच काफी लोकप्रिय हैIस्कूलों,कॉलेजों तथा हर शिक्षण संस्थानों में हर वैसी जगह जहां गीत- संगीत,नृत्य आदि जैसे कला का गुर सिखाया जाता है, बड़े ही धूम-धाम से यह उत्सव  मनाया जाता हैIमां सरस्वती को विद्या और ज्ञान की देवी माना जाता है, उनका सवारी हंस है,उनका आसन कमल जो सादगी और स्वच्छता का प्रतीक है I मां सरस्वती श्वेत वस्त्र धारण करती हैं  जो की सादगी का प्रतीक है, जिससे यह शिक्षा मिलती है कि विद्या ग्रहण करने वालों को आकर्षक एवं कीमती वस्तुओं का धारण नहीं करना चाहिए ,मां सरस्वती की चार भुजाएं हैं उनकी एक हाथ में वीणा जो संगीत का ज्ञान आवश्यक माना गया है ,गीत एवं संगीत को भक्ति एवं आध्यात्मिक रूप से काफी अहम माना गया है ,दूसरे हाथ में पुस्तक जो ज्ञान का शिक्षा देती है और एक हाथ वरमुद्रा  में और एक हाथ पुष्पमाला से सुसज्जित  हैI  पुराण  एवं शास्त्र के अनुसार वसंत पंचमी अर्थात सरस्वती पूजा के अलग-अलग ढंग से  चित्रण और सुनने को मिलता हैI मां सरस्वती का इसी दिन जन्म हुआ था इसलिए उनके जन्म दिवस के रूप में भी भी यह पर्व मानाया जाता हैI  मां सरस्वती को भगवती शारदा,वीणा- पानी, वागेश्वरी और वाग्देवी के नामों से भी जाना जाता है, सरस्वती पूजा के तैयारियां कुछ दिन पहले से ही  शुरू हो जाती है पूरे उत्साह एवं उमंग के साथ मोहल्ले ,कस्बों तथा गाँवों   में चंदा जमा करते हैं और पूजा के अवसर पर मां सरस्वती के सुंदर मूर्तियां सजावट व सुंदर वस्त्रों से सजा कर उनकी आराधना करते हैंI इस दिन स्त्रियां पीले रंग का वस्त्र धारण करती हैं

Monday, January 7, 2019

Essay on कुंभ मेला Kumbh mela in hindi पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

कुंभ हिंदुओं का पवित्र एवं अत्यंत महत्वपूर्ण पर्व है, कुंभ का आयोजन 12 वर्ष के समयांतराल  बाद होता है और इनके मध्यांतर में अर्धकुंभ भी लगता है जो 6 वर्ष के बाद आता है जब सूर्य और चंद्रमा वृश्चिक राशि में  बृहस्पति मेष राशि में प्रवेश करता है ,तब कुंभ मेला का संयोग बनता है। कुंभ पर्व का आयोजन हरिद्वार के गंगा नदी पर प्रयाग के संगम तट पर जहां गंगा ,यमुना एवं सरस्वती का मिलन है, नासिक में गोदावरी नदी और उज्जैन में शिप्रा नदी के किनारे आयोजन होता है I कुंभ मेला विश्व के किसी भी सामूहिक व धार्मिक मेला से जनसंख्या एवं वर्चस्व के मामले में सर्वश्रेष्ठ है, शास्त्रों के अनुसार उस दिन कुंभ पर्व पर श्रद्धालु दान, स्नान, पूजा- अर्चना साधु- संतों का दर्शन करते हैं, ऐसा माना जाता है कि  कुंभ के अवसर पर स्नान करना एक लाख वर्ष पृथ्वी के परिक्रमा के तुल्य के बराबर एवं सैकड़ों यज्ञ के बराबर पुण्य की प्राप्ति होती है ,विद्वानों के अनुसार उस दिन का शाही स्नान दुर्गुणों को दूर कर सद्गुण विचारों का आगमन होता है I इस दिन दान देने से मोक्ष की प्राप्ति होती है एवं मरणोपरांत स्वर्ग लोक में स्थान मिलती है, स्वर्गलोक एक ऐसी जगह है जो हमारे मरने के बाद किए गए नैतिक एवं उचित कार्य व कर्मों के अनुसार प्राप्त होता है, जहां सुख- समृद्धि के साथ- साथ वैभव एवं आनंद का साधन होता है ,वहीं नरक के बारे में कहा जाता है कि  हमारे द्वारा किए गए अनुचित एवं अनैतिक कर्मों का सजा दिया जाता है, जहां यातना एवं कठोर दंड दिया जाता हैI

Thursday, January 3, 2019

Essay on Republic day गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) in hindi पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh

 गणतंत्र दिवस हमारे देश का राष्ट्रीय पर्व है यह हर वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है, इसी दिन 1950 में आजादी के बाद भारत का अपना संविधान और लोकतांत्रिक ढांचे नए सिरे से लागू हुआI  भारतीय शासित देश बना अर्थात गणतंत्रात्मक बना ,26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस जो देश की पूर्ण स्वाधीनता का प्रतीक है इस दिन हम उन सभी महापुरुषों को याद करते हैं जिन्होंने देश के लिए अपना सब कुछ न्योछावर कर दिया,इसका ऐतिहासिक एवं राष्ट्रीय महत्त्व है ,जो हमेशा प्रेरणीय  हैI

 वैसे तो अंग्रेजों का भारत में  आगमन 1600 में व्यापारिक  सबंध स्थापित कर हुआ,और धीरे -धीरे राजतंत्र व्यवस्था को समाप्त कर बंगाल, मैसूर आदि अनेक शक्तिशाली  प्रांतों एवं राज्यों पर अधिकार कर लिए, कंपनी के अधीन गवर्नर जनरल की नींव से पुरे भारत में  राजतंत्र व्यवस्था को ख़त्म कर पुरे देश को कब्जे में ले लिया,सोने की चिड़िया जैसी देश पूरी तरह से  अंग्रेजों का गुलाम हो चुका था ,ब्रिटिश सरकार द्वारा भारतीयों को अपने ही देश में सामान्य जीवन जीने का सारे अधिकार छीनने लगे थे,कृषि प्रधान देश के  किसान अपने ही देश में दर-दर भटक रहे थे, स्थाई बंदोबस्त लागू कर भू राजस्व का  लगभग 90% ब्रिटिश कंपनी को 10% भाग ही अपने पास रखना था ,किसी भी भारतीयों को उच्च पद पर नियुक्ति वर्जित था

Essay on पिकनिक Picnic for School Students पे हिंदी में निबंध (लेख ) Nibandh lekh


मेरा दिसंबर सबसे प्रिय महीना है ,जब भी यह दस्तक देता है सर्दियों के साथ साथ शीतलता वाली रातें मौसम को और ही आकर्षक बनाता है स्कूलों की छुट्टियों में इजाफा हमारे लिए एक नए अवसर के रूप में होता क्योंकि प्रतिदिन हम  एक ही कार्य करते हैं जैसे कि पढ़ना- लिखना, स्कूल और कोचिंग जाना एक हि कार्य जो प्रतिदिन हो साधारण और नीरस बना देता है और विद्यार्थियों के लिए तो समय की पाबंदी और अनुशासन के साथ साथ कुछ ना कुछ नया सीखना, पढ़ना लिखना,जिंदगी ऐसे ही चलती है परंतु दिसंबर जब भी दस्तक देती है हमारे लिए एक अलग ही खुशी और सुकून लेकर आती है I क्योंकि क्योंकि क्रिसमस का त्योहार त्यौहार के साथ साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन जिसमें विद्यार्थियों के साथ- साथ शिक्षकों उत्साहपूर्ण तरीके  तरीके से बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते उस दिन हमारे लिए सांता क्लॉज़ द्वारा मिलने वाली उपहारें जो और ही खास बना देता है और उसके साथ ही प्रारंभ हो जाती है नव वर्ष की तैयारियां ,हमारे लिए नए साल की पहली तारीख ख़ास पर्व से भी ज्यादा मायने रखता है क्योंकि सबसे खास होता है हमारे लिए पिकनिक जिसके नाम सुनते ही मन उत्साह ऊर्जा से भर जाती है.


   पिकनिक दरअसल अपने आप में ही विशेष मायने रखता है इसका अर्थ होता है एक ऐसे स्थानों पर घूमने के साथ-साथ समय व्यतीत करना जहां प्राकृतिक सौंदर्य और तारो ताजा वातवरण से परिपूर्ण जगह जहां पर जहां पर एक साथ समूह में भोजन और मनोरंजन आदि करना होता है ,कभी-कभी  परीक्षाओं के बाद स्कूल की तरफ से पिकनिक का आयोजन होता है जिसमें सारे विद्यार्थियों के साथ- साथ शिक्षकगण भी उपस्थित होते हैं छात्रों से भरी बस शहर से थोड़ी दूर एक ऐसे पार्क या झील के लिए रवाना होता है जहां खूबसूरत वादियां और ऐतिहासिक स्ठल सुंदर दृश्य के साथ सुंदर दृश्य के साथ अपने आप  अपने आप में ही एक इतिहास समेटे रहता है जहां मनोरंजन के साथ-साथ नई चीजें को अध्ययन करने की मौका मौका मिलता है